निहितार्थ's image
101K

निहितार्थ

सृष्टि सृजन है

सृजन में छिपा

सृष्टि का विध्वंस है


मैं आज हूँ

क्योंकि मुझे

कल न

Read More! Earn More! Learn More!