मन की आँखें's image
101K

मन की आँखें

आँखों से नीर बन कर

कहीं बह न जाना तुम

यादों की इस भीड़ में

कहीं बिसर न जाना तुम


मन में बसा

Read More! Earn More! Learn More!