कल तक's image
Share0 Bookmarks 60514 Reads0 Likes

कल_तक जो आज था

आज क्यों वैसा नहीं है

कल तक सुनहरी भोर थी

आज वैसी रही नहीं है


किसने ये बदलाव किया<

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts