इंसानियत's image

इंसानों की जात थी

इंसानियत की बात थी

तुम कैसे भूल गए

इंसानों पर घात की


न तेरे अभिमान

Read More! Earn More! Learn More!