ह्रदय मेघ's image

जब से तुम बसे ह्रदय में

नयनों ने निंदिया है खोई

जित देखूँ तुम ही तुम हो

हर ओर तेरी सूरत लखाई


तन की सुध न जग का डर है

Read More! Earn More! Learn More!