गुमनामी's image
Share0 Bookmarks 59587 Reads0 Likes

कदम कदम पर मेले थे

फिर भी हम अकेले थे

समय धारा में प्रवाह न था

बस लहरों के थपेड़े थे


दुनिया के नीरस मेले में

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts