दरारें's image
Share0 Bookmarks 59885 Reads0 Likes

दीवारों पर उग आईं दरारें

बढ़ने लगी हैं तकरारें

जान कर अनजान न बन

तबाही का सामान किया है


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts