चाँद के पार's image
96K

चाँद के पार

साँझ सोई रात ओढ़कर

जुगनू चमके तारे होकर

आसमां पे रख गया कोई

चाँद सी एक रोटी बेल कर 


मैं न कहता था तुमसे

Read More! Earn More! Learn More!