अंदाजा's image
Share0 Bookmarks 64201 Reads0 Likes

चीख चीख कर रोष बयां करती रही

लहरों के आवेश का अंदाजा न हुआ

चीर कर किनारों को जब बहा ले गई

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts