प्रेम की सियासत's image
75K

प्रेम की सियासत

मैं तुम्हारी सारी कमियों को

दुसाले से ढक लूं

जैसे तुम्हारे ज़ख्मों को

पट्टी लगाकर सहेज लूं

प्यार में प्रेमी यही तो करते हैं

इसमें कहने की क्या बात है।

या तो तुम्हें प्रेम नहीं हुआ

या फिर तुमने जिंदगी महसूस नहीं की

या फिर हो सकता है तुम्हारी चाल ही सियासी हो

क्योंकि दुख, दुख को सहलाता है

कमीं, कमीं को भर देती है लेकिन

तुम्हें ऐतराज़ है मेरी

Read More! Earn More! Learn More!