Prakruthi's image
Share0 Bookmarks 62070 Reads1 Likes

एक तितली जो रुक रुक के चली

आ गयी आँगन में रंगीली

ख़ुशी से खिल उठा मेरा मन

यह है प्रकृति का दर्पण

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts