वह लिखती है's image
79K

वह लिखती है

जब आँखें नहीं आत्मा रोती है 

तब वह कविता लिखती है 

जब वह बारिश से नहीं आँसुओं से 

दामन भिगोती है 

तब वह कविता लिखती है 

जब वह किसी कारण बहुत खुश होती है 

हंसती है मुस्कुराती है 

तब वह कविता लिखती है 

जब वह समाज की विषमता से परेशान होती है

तब वह कविता लिखती है 

जब वह दुःख के पहाड़ को ढोती है

तब वह दर्द को शब्दों का जामा पहनाकर

धीरे धीरे अर्थ की गहराई में जाकर ...

लक्षणा और व्यंजना शक्ति का सहारा लेती है

तब वह कवि

Read More! Earn More! Learn More!