गौरैया और गिद्ध's image
79K

गौरैया और गिद्ध

किसी संघर्ष के दौरान

ताप का शिकार हुई ज़मीं पर

जब ख़ून की छींटें पड़ती हैं

तब छनछना कर उठता है अराजकता का धुआँ...


पेड़ों पर गर्दन झुकाए आराम करते गिद्धों के

सिर उठ जाते हैं;

और इनका समूचा झुंड, पूरे पंख फैला कर

आसमाँ में करता है तांडव...

बेधड़क!

वहीं दूसरी तरफ़ एक गौरैया,

चोंच में धान का बीज दबाए

भागती है घोंसले की ओर

और किसी मासूम से बच्चे की तरह

डर से पंखों में छुपा लेती है मुँह अपना...

Read More! Earn More! Learn More!