रूमानी नवम्बर's image
Poetry1 min read

रूमानी नवम्बर

Kiran K.Kiran K. November 14, 2021
0 Bookmarks 213103 Reads1 Likes
नवम्बर की रेशमी धूप
खिड़की से आकर
मेरे झुमके से छनती हुई
हर सू बिखर गई है
और ये बाद-ए-सबा
सर्द मौसम के आमद का
पैग़ाम लिए आई है
नवम्बर की भीगी सी महक<

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts