अज़्म-ए-सफर's image
Share0 Bookmarks 228159 Reads1 Likes
किसे परवाह मंज़िल की मिले या न मिले अब तो 
हसीं अज़्म-ए-स

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts