's image
Share0 Bookmarks 61345 Reads1 Likes
कविता - युगल
 कवि - जोत्सना जरीक


 .
 वो नीली नदी
 पास मत जाओ
 धीरे-धीरे नीला हो जाना
 सफेद हो जाएगा।
 मेरा खून गुलाब
 इस तरह   बदलते दिन
 उस रंग को मत बदलो

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts