रंगीन सपनों का रजिस्ट्रेशन: प्रेम किशोर 'पटाखा' | हास्य कविता's image
हास्य कविताPoetry2 min read

रंगीन सपनों का रजिस्ट्रेशन: प्रेम किशोर 'पटाखा' | हास्य कविता

KavishalaKavishala January 27, 2023
Share0 Bookmarks 81063 Reads0 Likes

कुछ होते हैं सपने रंगीन 

तो कुछ हसीन 

कुछ सपने देखते नहीं 

दिखाते हैं

सपनों ही सपनों में 

आपको झुलाते हैं। 


मंच पर आते ही वे 

फूल मालाओं से लद गए 

आगे-पीछे दाएं- बाएं 

चमचों से बंध गए 

चमचों ने आपको 

कंधों पर उठाकर 

जय-जयकार का नारा लगाया 

उन्होंने आपको अपने 

रंगीन सपनों में झुलाया 


भोली जनता 

उनके हसीन सपनों पर 

फिदा हो गई 

नेता जी के साथ 

चमचों की भीड़ विदा हो गई 

देवलोक में 

मुनिवर नारद आपकी वीणा के तार 

झनझना रहे हैं 

भक्तों को रंगीन सपनों से रिझा रहे हैं 


उधर जो लंबी लाइन 

धरती से उठकर 

आकाश की ओर आ रही है 

बढ़ती हुई महंगाई का 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts