Couplets By Aalok Shrivastav's image
278K

Couplets By Aalok Shrivastav

ये सोचना ग़लत है कि तुम पर नज़र नहीं

मसरूफ़ हम बहुत हैं मगर बे-ख़बर नहीं



आ ही गए हैं ख़्वाब तो फिर जाएँगे कहाँ

Read More! Earn More! Learn More!