धन्य: अस्मि भारतत्वेन's image
112K

धन्य: अस्मि भारतत्वेन

- Vishnu Purana -

रत्नाकरधौतपदां हिमालयकिरीटिनीम्।

ब्रह्मराजर्षिरत्नाढ्याम वन्देभारतमातम्॥


(जिनके पैर समुद्र द्वारा धोए जाते हैं और जो हिमालय से सुशोभित हैं, वह, जो कई ब्रह्मऋषियों और राजऋषियों से भरा है। ऐसी मेरी भारत माता को अभिवन्दन।)

------------

Salute to my mother India, whos’ feet are washed by the sea, adorned with Himalaya, she, who possess many Brahmarishis (intellectual sages) and Rajyarishis (king sages)


- Vishnu Purana -

गायन्ति देवाः किल गीतकानि धन्यास्तु ते भारतभूमिभागे ।

स्वर्गापवर्गास्पदमार्गभूते भवन्ति भूयः पुरुषाः सुरत्वात् ॥


(देवगण भी यह गान करते हैं कि जिन्होंने भारतवर्ष में जन्म लिया है, जो कि स्वर्ग और मोक्ष का मार्ग है, वे पुरुष हम देवताओं से भी अधिक धन्य हैं।)

------------

Even the gods sing that the men who are born in this Bhāratavarṣa, which is the path to heaven and liberation, are more

Tag: Kavishala और3 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!