गोपाल दास नीरज जी सिर्फ साहित्यकार ही नहीं's image
93K

गोपाल दास नीरज जी सिर्फ साहित्यकार ही नहीं

मे जिन सहितेयकारो की कविताएँ, कहानियां पसंद आती है जिनसे हमे जीवन का मोल पता चलता है उन्ही में एक मशहूर साहित्यकार हमारे गोपाल दास नीरज भी थे। गोपाल दास नीरज जी सिर्फ साहित्यकार ही नहीं बल्कि शिक्षक, एवं कवि सम्मेलनों के मंचों पर काव्य वाचक और फ़िल्मों के गीत लेखक थे। गोपाल दास नीरज जी ने अपनी ज़िंदगी में बहुत संघर्ष किये तब जाकर उन्हें ये मकाम हासिल हुआ। और आप को बता दें की उनका जन्म 4 जनवरी 1925 को ब्रिटिश भारत के संयुक्त प्रान्त आगरा व अवध, जिसे अब उत्तर प्रदेश के नाम से जाना जाता है, में इटावा जिले के ब्लॉक महेवा के निकट पुरावली गाँव में बाबू ब्रजकिशोर सक्सेना के यहाँ हुआ था। 6 साल की उम्र में उनके पिता का साया उनके सर से चला गया, लेकिन गोपाल दास नीरज जी उस उम्र भी मानसिक तोर पर कमज़ोर नहीं हुए और इसे स्वीकार कर अपनी ज़िंदगी को बेहतर बनाने की और चल पड़े। 1942 में एटा से हाई स्कूल परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की। शुरुआत में इटावा की कचहरी में कुछ समय टाइपिस्ट का काम किया उसके बाद सिनेमाघर की एक दुकान पर नौकरी की। उन्होंने टाइपिस्ट का काम यही नहीं बल्कि दिल्ली सफाई विभाग और बाल्कट ब्रदर्स नाम की एक प्राइवेट कम्पनी में पाँच वर्ष तक टाइपिस्ट का काम किया। और यही नहीं उन्होंने कानपुर के डी०ए०वी कॉलेज में क्लर्की की। पर उन्हें अपने शिक्षा को और बढ़ाया और प्राइवेट परीक्षाएँ देकर 1949 में इण्टरमीडिएट, 1951 में बी०ए० और 1953 में प्रथम श्रेणी में हिन्दी साहित्य से एम०ए० किया। ये सभी सफलताएं उन्होंने अपने काम के साथ प्राप्त की मेरठ कॉलेज ,मेरठ में हिन्दी प्रवक्ता के पद पर कुछ समय तक अध्यापन कार्य भी किया किन्तु कॉलेज प्र

Read More! Earn More! Learn More!