रमइया वस्तावइया's image
Story4 min read

रमइया वस्तावइया

KaushalendraKaushalendra April 22, 2022
Share0 Bookmarks 47869 Reads0 Likes

रमइया वस्तावइया 

यह तब की बात है जब होली के रंगों में धूल, कीचड़, गाड़ियों से निकला हुआ काला मोबाइल ऑयल और अन्य विषाक्त रसायनों को सम्मिलित नहीं किया गया था । सीधे-साधे लोग किनारा करते गये और किसी प्रतिरोध के अभाव में रंग को बदरंग करने वाली इन चीजों ने होली के रंगों के बीच अपना आतंकपूर्ण स्थान बना लिया, ठीक उन अपराधियों की तरह जिन्होंने राजनीति में भी अपना आतंकपूर्ण स्थान बना लिया है । होली के अच्छे रंग इन बदरंगों से डरने लगे और हुड़दंगियों से भयभीत लोगों ने होली में रंग खेलने से स्वयं को विरत कर लिया, ठीक राजनीति में रुचि रखने वाले उन अच्छे लोगों की तरह जिन्होंने अपराधी राजनीतिज्ञों के भय से राजनीति से स्वयं को विरत कर लिया है । रमइया को विद्रोही बनाने वाले घटकों में गाँव में प्रवेश कर चुकी इस बदरंगी होली का भी एक स्थान है । 

उसे राजकपूर की फ़िल्म श्री चारसौबीस का गाना “रमइया वस्तावइया मैंने दिल तुझको दिया” पसंद था और प्रायः गुनगुनाया करता । धीरे-धीरे गाँव के लोग उसे रमइया वस्तावइया नाम से पुकारने लगे । एक दिन उत्तर प्रदेश के गाँव से निकलकर रमइया वस्तावइया बम्बई गया तो फिर कभी गाँव नहीं आ सका । यूपी के गाँवों में ऐसा भी होता है, एक भाई यदि बाहर चला जाय तो दूसरा उसकी सम्पत्ति पर अधिकार कर लेता है और फिर उसे गाँव में कभी झाँकने तक नहीं देता । यूँ, कुछ लोग झाँकने का प्रयास करते भी हैं, किंतु वही जो लाठी-पोंगे का सामना करने से नहीं डरते ।  

तेलुगु में रमइया वस्तावइया का अर्थ है “राम तुम कब आओगे” । दिन,

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts