जीवन का सार's image
97K

जीवन का सार

किसी विराने,

किसी मरुस्थल,

का हिस्सा हूं मैं

सुखा पड़ा ,

ज़मीन का कोई हिस्सा हूं मैं


कीमत क्या , 

मेरे होने का

ना होने का ,

कोई जवाब नहीं


मौका मिले

पानी पड़े,

नम होउ 

तो कोई बात बने


नजर पड़े

किसी कुम्हार का ,

मार पड़े

किसी हथियार का ,

बनाए बिगाड़े 

कुछ तो करे

ज्यादा नही थोड़ा सही ,

कुछ तो क़ीमत मे इज़ाफा करे


फिर बिक जाऊं

Read More! Earn More! Learn More!