ख्वाब's image
Share0 Bookmarks 60800 Reads0 Likes

यूं नुमाइश ना किया कर सरेआम अपने ख़्वाबों की,

सुना हैं आज कल ख़्वाब भी छीने जा रहे हैं महफ़िलों में।

                   &nb

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts