कितनी ही बूढ़ी आँखों को उन अपनो के साथ की देरी थी।'s image
74K

कितनी ही बूढ़ी आँखों को उन अपनो के साथ की देरी थी।

कितनी बूढ़ी आँखों को उन अपनो के साथ की देरी थी।

बेह चली याद करके कभी एक सी उनग्लियां इन अपनो पे फेरी थी ।

क्या पता था वक्त सी भड़ती इच्छाओ पे लड़ पड़ेंगे ये जमीन तेरी ये मेरी थी।

उन माँ बाप की छो

Tag: shayari और6 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!