मेरी माँ ही ऐसी हैं!!'s image
75K

मेरी माँ ही ऐसी हैं!!

                            माँ - यह शब्द सुन कर 
                          होती हैं दिल में खन खन ,
                          इन शब्दों में बसी हैं जन्नत 
                     मांगते हैं सब लोग इसी की मन्नत ,
                           क्योंकि भाव ही ऐसे हैं 
                             मेरी माँ ही ऐसी हैं । 

                   जिसने रखा नौ माह अपनी कोख में
                      जिसने झेले कष्ट सिर्फ मेरे लिए ,
                        नहीं मांगती हैं कुछ बदले में 
                   सिवाए लंबी उम्र और दुआएं मेरे लिए ,
                             क्योंकि भाव ही ऐसे हैं 
                               मेरी माँ ही ऐसी हैं। 

                              जब चोट लगे तो 
                        मुख से सिर्फ निकले माँ , 
                            जब उल्लास हो तो 
                     याद आती हैं सबसे पहले माँ , 
                          क्योंकि भाव ही ऐसे हैं
                             मेरी माँ ही ऐसी हैं । 

                   जो खाती हैं खाना सबसे अंत में 
                  ताकि मेरा पेट भर सके आरंभ में ,
                     एक रोटी मांगो तो दो देती हैं 
                  खाली पेट रहो तो क्रोध करती हैं ,
                        क्योंकि भाव ही ऐसे हैं
                           मेरी माँ ही ऐसी हैं ।&nb
Read More! Earn More! Learn More!