ज़रा ज़रा-सा -Kamini Mohan's image
Poetry2 min read

ज़रा ज़रा-सा -Kamini Mohan

Kamini MohanKamini Mohan April 17, 2022
Share0 Bookmarks 60305 Reads2 Likes
टूट-फूट से बचता हुआ
नाजुक संतुलन बनाते हुए 
रहे सब कुछ बस ज़रा ज़रा-सा।

ज़िन्दगी लगती कामचलाऊ
पर रूकती नहीं ज़रा-सा।

प्रेम के रफ़्तार में
टुकड़े-टुकड़े लिहाज़ में
तलाश अपनी उम्र की
करती रहती ज़रा-सा।

व्यर्थ के दिन-रात में
अंकुरण के इंतिज़ार में
मोहलत बस ज़रा-सा। 

फिर धूप की तपिश और
सूख कर ऐंठना
जलना-बुझना ज़रा-सा।

फिर-फिर उगने के संघर्ष में
समय दिखता ज़रा ज़रा-सा।

मुनासिब नहीं उजाला रहे
अंधेरा चाहिए ज़रा ज़रा-सा।

दबे बीज की गहराई में
जड़े जमाने की फ़िराक़ में

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts