यहाँ तबियत  एक जगह नहीं जमती  है - कामिनी मोहन।'s image
98K

यहाँ तबियत  एक जगह नहीं जमती  है - कामिनी मोहन।

यहाँ तबियत  एक जगह नहीं जमती  है,
जरा-सी देर में कविता ज़ेहन बदलती है।

Read More! Earn More! Learn More!