180. प्रेम की जमीन - कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

180. प्रेम की जमीन - कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan October 11, 2022
Share0 Bookmarks 57906 Reads2 Likes
वो वक़्त-सा जाकर भी मुझ तक लौटता रहा,
इस मोड़ से उस मोड़ तक बस देखता रहा।
न रुका न चला बस सोचता रहा,
अपने ही क़दमों को तुम तक पहुँचाता रहा।

पानी की तरह बहता जाता है सबकुछ,
चुपचाप क़दमों से राह निकलता रहा।
कभी तेज़-सी, कभी हल्की-सी हैं ज़िंदगी की लौ,
ख़बर चराग़ों की उपस्थिति तक दर्ज़ करता रहा।

अपनी उपस्थिति का ही फ़र्ज़ मुझ पर रहा,
खुली आँखों क

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts