कभी आगे कभी पीछे भागते हुए - © कामिनी मोहन पाण्डेय।'s image
96K

कभी आगे कभी पीछे भागते हुए - © कामिनी मोहन पाण्डेय।

कभी आगे कभी पीछे भागते हुए,
शब्दों से घिरी कविता पकड़ लेगी।
रचते हुए अनगिनत को गिनते हुए,
हर बार कविता अकड़ लेगी।

तारीफ़ शब्दों की कभी कड़वी,
कभी मीठी चासनी में घोल लेगी।
प्रतियोगिता है हृदय के बीच
प्रेम और नफ़रत के हिस्से को चुन लेगी।
Read More! Earn More! Learn More!