234. अनुमान के कटघरे में - कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

234. अनुमान के कटघरे में - कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan March 17, 2023
Share0 Bookmarks 57468 Reads1 Likes

कभी-कभार मुझे लगता है कि

मैं आधा अंदर और आधा बाहर हूँ।

कभी-कभी मैं अतीत का क़ैदी

और भविष्य का अग्रणी हूँ।

प्रतिक्रिया की परवाह नहीं
पुराने तरीके के उत्साह के लिए लालायित हूँ।
प्रत्येक प्रक्रिया में अलग-थलग होता हूँ
कुछ लोगों के लिए सही
और कुछ लोगों के लिए ग़लत होता हूँ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts