220.अंतर्मन गुम्फित- कामिनी मोहन।'s image
80K

220.अंतर्मन गुम्फित- कामिनी मोहन।

चित्त में रहते हर पल दीपित
सत् रज् तम् से परे संकल्पित।

सृजन सृजन अंतर्मन गुम्फित
है सहज
Read More! Earn More! Learn More!