219.सत्य-प्रेम की शक्ति क्षणिक न थी - कामिनी मोहन।'s image
77K

219.सत्य-प्रेम की शक्ति क्षणिक न थी - कामिनी मोहन।

सत्य-प्रेम की शक्ति क्षणिक न थी हम दोनों की
बेबसी लाचारगी एक-सी थी हम दोनों की

मजबूरी में हम इधर से उधर गए
देखते ही देखते जीवन गुज़र गए
Read More! Earn More! Learn More!