217.कविता का विलाप
- © कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

217.कविता का विलाप - © कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan February 6, 2023
Share0 Bookmarks 58930 Reads1 Likes
हमारी पूर्णता हमारे अलावा
किसी और चीज़ से परिभाषित नहीं है।
क्षणभर में बदलता है सबकुछ
मनुष्य के लिए मनुष्य परिभाषित नहीं है।

मैं, तुम और वो सतर्क है फिर भी
आँखों की चमक को
आँखे देख न पाएँगी।
चीज़ें ख़ुद को जानने और
ख़ुद को बदलने में लग जाएँगी।

चलो सिर्फ़ चमकते टुकड़ों को जोड़ते हैं
लेकिन कितना भ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts