199.प्रेम ही सारी गतिविधियों को - कामिनी मोहन।'s image
78K

199.प्रेम ही सारी गतिविधियों को - कामिनी मोहन।

प्रेम ही सारी गतिविधियों को
ख़ुशी और शांति के साथ
संतृप्त करता है।

- ©
Read More! Earn More! Learn More!