183.अपने माज़ी को जो भूल गए- कामिनी मोहन।'s image
79K

183.अपने माज़ी को जो भूल गए- कामिनी मोहन।

अपने माज़ी को जो भूल गए,
गागर पूरा खाली कर गए।

लम्हा छलका तो वापस न हुआ
गागर टूटा तो फिर अपना न हुआ।
Read More! Earn More! Learn More!