कब तक's image
Share0 Bookmarks 64228 Reads1 Likes



कब तक दिल की आवाज़ को दबा के रख़ोगे

एक न एक रोज़ अश्कों का झरना छूट जाना है,

कब तक रोकोग़े खुद को मेरे पास आने से

आख़िर में तुम्हें मुझ में ही तो मिल जाना है,

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts