क्या कहा जाए !'s image
न तुम्हे चांद ही कहूं
न तुम्हे सांझ ही कहूं
न हो तुम कोई भोर
न ही कोई ज्योत।

तुम्हे बांध के छंद में
पिरो कर तरानो में 
डालकर पैरों में
उपमाओं
Read More! Earn More! Learn More!