पत्थर भी गाता है's image
Poetry1 min read

पत्थर भी गाता है

janmejay ojha " manjar"janmejay ojha " manjar" February 4, 2023
Share0 Bookmarks 61023 Reads1 Likes

इन्सान तो गातें है हीं, यहां पत्थर भी गाता है,

है जानवर भी खेलते, मौसम भी इठलाता हैं।।

ये वादियां हवाएं , सरगम सुना रहीं हैं,

खुबसूरती से अपनी, सबको लुभा रही है,

सागर तों सरगम हैं हीं,नित झरना भी गाता है।। 

ये चांद तारे सूरज,जब देखते हैं सूरत,

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts