ग़ज़ल  (इबादत )'s image
Share0 Bookmarks 57960 Reads0 Likes

#ग़ज़ल 

जब तक आसमान में चांद दिखेगा 

जब तलक आपकी इबादत में आपका दीवाना हर रोज़ कोई ना कोई ग़जल जरूर लिखेगा ।


चंद रातों की मैं अपनी ग़ज़ल में बातें करूंगा,

मुझे जब भी जन्म मिलेगा मैं हर जन्म तक आपकी ही इबादत करूंगा ।


मेरी इबादत यानी के आप हमेशा हंसते रहना ।

मैं लिखता रहूंगा आपके लिये कोई ना कोई प्यार भरी ग़ज़ल आप बस वक्त निकाल के पढ़ते रहना ।


बाग में कलियाँ खिलेंगी&n

Send Gift

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts