मानवता का हनन's image
Poetry1 min read

मानवता का हनन

Ishika guptaIshika gupta September 12, 2021
Share0 Bookmarks 231428 Reads0 Likes

मानवता का हनन


कई दूर से चली आंधी ने

ना जाने कितनो पर धूल जमा दी,

एक मासूम के अंश मे

ना जाने कोन से राक्षस को बिठा गई ,

हर चीज़ को खिलौना समझने वाले

अब इंसानों का भी मोल लगाने लगे,

वो हर दर्द से परे अपनी ज़िद पूरी करने लगे

वो यूंही मानवता का हनन करने लगे ,

लोगो की मौत से खेलना

उनका पसंदीदा खेल बन गया

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts