भोर's image
Share0 Bookmarks 206729 Reads0 Likes

भोर कुछ देर हंस के लौट गई।

धूप कुछ देर तप के लौट गई ।

शाम ए ग़म तू ही

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts