अनमने मन से...'s image
Share0 Bookmarks 57331 Reads0 Likes

ऊंघते अनमने से मन से,

झुंझला, खिन्नता से भरे मन से,

देखा है आज मैंने,

क्षणिक उठा नभभर दृष्टि,

उजले-काले, छटतें बनते,

बिना पग के पयोध चलते,




No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts