मुझे नहीं मालूम's image
75K

मुझे नहीं मालूम

फटे ज़ेब में आजकल

ख़ुशियां तलाश रहा हूँ


मेरे हाँथ अब इनमें

सिक्के नहीं ढूंढते

न ही ढूंढते हैं चुराए हुए

आम, इमली और मिठाई


ये ढूंढते हैं ख़ुशी जैसा ही कुछ

जो नहीं मिलती किसी डिजिटल वॉलेट में

ना ही बंद पड़ी आलमारी के लॉकर में

Tag: और7 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!