तू क्यूँ खामोश खड़ा's image
Poetry3 min read

तू क्यूँ खामोश खड़ा

I Am D WriterI Am D Writer January 5, 2023
Share0 Bookmarks 65455 Reads1 Likes
देख अस्मत ये जहां नज़रों के सामने लूट रहा
कहने को तो माँ है कहता फिर तू क्यूँ खामोश खड़ा
रंग दामन का है उसका देख कैसा मैला हुआ
सुन पुकार उसकी जो खामोश हो तुझे पुकार रहा
देख अस्मत ये जहां नज़रों के सामने लूट रहा
कहने को तो माँ है कहता फिर तू क्यूँ खामोश खड़ा
कब तक नज़रों से नज़रें चुरा यूही चला जाएगा
शहीद होने का जज्बा नहीं जिसमे वो एक दिन यूही खर्च हो जाएगा
मौत की दस्तक है पक्की, फिर तू क्यूँ डर रहा
जिसके जिगर से आवाज न निकले वो बूत बना रह जाएगा
देख ये जीवन रणं आज तुझे पुकार रहा
कहने को तो माँ है कहता फिर तू क्यूँ खामोश खड़ा
आबरू की बात करते है बहुत ज्ञानी यहाँ, देश ये वही है औरत हुई सती जहां
आँख उठा के देख ये आज भी वैसा ही है
सती का प्रचलन नहीं तो फांसी भी कहा पापी को है
कहते है सभी की वक़्त है बदल गया
पर ज़रा गौर से देख किताब भल्ले बदल गई पर किस्सा वही रह गया
सब नज़र अंदाज कर इंसान शमसानो में जी रहा
कहने को तो माँ है कहता फिर तू क्यूँ खामोश खड़ा
वो आवाज किसी काम की नहीं जो कानो तक न पहुंचे
वो आग किसी काम की नहीं जो रौशनी ना फैलाये
वो उम्र बेकार है जो यूही गुज़र जाए

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts