सारे मुल्क़ों को नाज था's image
296K

सारे मुल्क़ों को नाज था

सारे मुल्क़ों को नाज था

अपने अपने परमाणु पर

कायनात बेबस हो गई

एक छोटे से कीटाणु पर

तुं तुच्छ-ओ-अदना कण

साम्राज्य फैलाने चला तुं

पृथ्वी  से परे दूजे ग्रह

चंद्र-परिक्रमा परि-भ्रमण

प्रभुजी ने एक ही कीटाणु से

भ्रम तेरा किया रमण-भ्रमण

सज

Read More! Earn More! Learn More!