अपना ये रिश्ता's image
76K

अपना ये रिश्ता

अपना ये रिश्ता

न अपनों वाली आत्मीयता है और,

न अजनबियों वाली औपचारिकता। 

असहज हो जाती हो मेरी मौजूदगी में,

आखिर कैसा है अपना ये रिश्ता। आखिर …

 

न कभी अनुराग से मनुहार किया और,

न ही कभी नम्रता से परिपूर्ण निवेदन।

चंद लफ़्ज़ों में कर लेती हो जरुरत की बात,

आखिर कहाँ सीखी ये व्यवहार कुशलता। आखिर …

 

न दिखी कभी स्नेहमयी सहज संवेदना और,

न ही कभी शिष्टाचार की कृत्रिम कृतज्ञता।

फिर भी रोज होती हैं अपनी बातें दो चार,

आखिर क्या है इस संवाद की विवशता। आखिर …

 

न कभी देखता हूँ बेबाक बिंदास ठहाके और,

न ही लिपस्टिक सी चिपकी नकली मुस्कान।

बस शून्य में कुछ ढूंढता एक भावहीन चेहरा,

Tag: poetry और3 अन्य
Read More! Earn More! Learn More!