मैं औरत हूंँ (कविता)'s image
मेरी लेखनी मेरी कविता 
मैं औरत हूंँ (कविता)

दिल में बस जाए
वह मोहब्बत हूंँ
 कभी बहन कभी
ममता की मूरत हूँ।

मेरे आंँचल से
बने चांँद सितारे 
मैं अपने आप में
 रब की एक मूरत हूंँ।

हर दर्द छुपा लिया सीने में
 जुबां पर ना
Read More! Earn More! Learn More!