कविता (अदाएं)'s image
0 Bookmarks 10116 Reads1 Likes

मेरी लेखनी, मेरी कविता

"अदाएं "

तेरी हर बात नवाबी है ,

अतिरेक नहीं तुझमें पाया

तेरी हर अदा निराली है ।

चलने पर लगती मधुशाला

तेरी हर बात नवाबी है ।


तू चंचल चितवन की स्वामिन

तू है लोगों का मयखाना ,

हर रंग रूप है दीवाना

मर मिटे तेरा हर परवाना ।

तेरे आने से हो जाए

मौसम हर ओर शबाबी है ।

तेरी हर अद

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts