चल सफर पर चल बटोही (कविता )'s image
Poetry1 min read

चल सफर पर चल बटोही (कविता )

हरिशंकर सिंह सारांशहरिशंकर सिंह सारांश March 8, 2023
Share0 Bookmarks 64430 Reads1 Likes
मेरी लेखनी मेरी कविता
 चल सफर पर चल बटोही (कविता )

चल सफर पर चल बटोही 
सफर तेरा बाकी है ।
जीवन लंबा समय जरूरी 
मंजिल पाना बाकी है।।

 चल सफर पर चल बटोही
 सफर तेरा बाकी है ।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts