बड़े बड़ों को  फकीर होते देखा है  (कविता)'s image
97K

बड़े बड़ों को फकीर होते देखा है (कविता)

मेरी लेखनी मेरी कविता 
बड़े बड़ों को फकीर होते देखा है  
(कविता)

हंँसी में छुपी
 खामोशियों को देखा है।
मयखाने में बुजुर्गों को भी
जवान होते देखा है।।

हमने इंसानों को
जरूर
Read More! Earn More! Learn More!